पटवारी आवेदन की तारीख बड़ी अब 15 तक कर सकेंगे आवेदन    |    चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संवर्ग का वेतनमान अब 5200-20200-1700 होगा, आदेश जारी    |    लिपिक वर्गीय कर्मचारियों की बल्ले बल्ले, पदनाम परिवर्तित, ग्रेड पे बढ़ा    |    पटवारी भर्ती परीक्षा की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण तथ्य 2    |    पटवारियों की बम्फर भर्ती प्रक्रिया शुरू, कल से भरे जा सकेंगे ऑनलाइन फ़ार्म    |    कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे ने समस्याएं निराकृत करने दिए निर्देश    |    अपर कलेक्टर श्रीमती दिशा प्रणय नागवंशी द्वारा ग्राम बरखेडा बोंदर और परवलिया सड़क का भ्रमण    |    संविदा पर भर्ती से तहसीलदार जैसे एक महत्वपूर्ण पद की महत्ता कम होगी : मुकुट सक्सेना     |    स्थानांतरित पटवारी तत्काल कार्यभार ग्रहण करें, वरना होगी सख्त कार्यवाही - कलेक्टर डॉ. खाडे     |    पटवारी जी कृपया नामांतरण ग्राम पंचायत में ही प्रमाणित करवाएं    |    

एक दिन में मिली अनुकम्पा नियुक्ति

PUBLISHED : Aug 23 , 11:31 PM

 


 

 

 

 

 

 

 

 

 


 
 
कलेक्टर श्री नन्द कुमारम जी की संवेदनशीलता 
 
 
अपने ही कार्यालय मे ही दे दी
 
 
 
एक दिन में अनुकम्पा नियुक्ति
 
 
एक साल से परेशान थी मृत शासकीय सेवक की पुत्री
 
(नीमच से उदयलाल रावत)
 
नीमच। कलेक्टर श्री नन्द कुमारम जी के बारे में उनके सख्त होने की चर्चाएँ रहती हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। कलेक्टर श्री नन्द कुमारम जी दिल और मन से बेहद ही संवेदनशील व नरम है। यही कारण है कि, वे हमेशा गरीबों दिन-दुखीयों, जरुरतमंदो और पीड़ितों की सेवा एवं सहायता के लिये हमेशा लगे रहते है। ऐसा ही एक उदाहरण हमें विगत समय सीमा पत्रों के निराकरण की समीक्षा बैठक में देखने को मिला। जब कलेक्टर श्री नन्द कुमारम जलसंसाधन विभाग नीमच की समीक्षा कर रहे थे, तो उनके सामने अनुकम्पा नियुक्ति का एक लंबित प्रकरण जल संसाधन विभाग में कार्यरत सहायक ग्रेड -3 श्री तुलसी वल्लभ जोशी का आया। जिनकी 18.02.2014 को मृत्यु हो गई, तभी से उनके आश्रित अनुकम्पा नियुक्ति के लिए परेस्शान हो रहे थे। 
कलेक्टर श्री नन्द कुमारम पिछली चार बैठक से टी.एल में हर बार जल संसाधन कार्यपालन यंत्री श्री पी.एन. जम्मीदार को इस प्रकरण का निराकरण करने के निर्देश दे रहे थें। परन्तु उनके द्वारा इस प्रकरण का कोई निराकरण नही किया गया। सोमवार 10 अगस्त को पुनः समय सीमा बैठक में कलेक्टर श्री नन्द कुमारम ने इस प्रकरण के बारे में कार्यपालन यंत्री जल संसाधन श्री पी.एन. जम्मीदार से पुछा तो उन्होने वही रटा-रटाया जवाब दिया कि सर विभाग में कोई पद रिक्त नही है। इसलिए अनुकम्पा नियुुक्ति दिया जाना संभव नही है। 
कार्यपालन यंत्री का यह जवाब सुनकर कलेक्टर श्री नन्द कुमारम ने नाराजगी जताई। उन्होने कहा कि जो शासकीय सेवक मृत हुआ है, वह आपका साथी-सहयोगी था एवं आपके विभाग का कर्मचारी था उसका परिवार साल भर से परेशान है और आप है कि, हमारे विभाग में कोई पद रिक्त नही है कहकर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहे है। यह कतई उचित नही है। कलेक्टर श्री नन्द कुमारम ने जल संसाधन कार्यपालन यंत्री को निर्देश दिये कि आप टी.एल. मीटींग के बाद उनकी अनुकम्पा नियुक्त की नस्ती के साथ मेरे चेंबर में व्यक्तिगत रुप से मिले इस प्रकरण का आज ही निराकरण करना है। 
उन्होंने बैठक में उपस्थित सभी जिला अधिकारियों को निर्देश दिये कि अपने विभाग के मृत शासकीय सेवकों के प्रति सहानुभूति रखें, चाहे वह किसी भी श्रेणी का कर्मचारी हो। अनुकम्पा नियुक्ति के प्रकरणों का निराकरण तत्काल होना चाहिये यदि किसी विभाग में कोई पद रिक्त नही है। तो संबंधीत जिला अधिकारी पुरी नस्ती के साथ मुझसे संपर्क करें। जिले में किसी भी विभाग में कोई पद रिक्त होगा तो मैं मृतक के आश्रित को उस विभाग में नियुक्ति दिलवाउगा। 
मीटिंग के बाद श्री पी.एन. जम्मीदार चेंबर में जाकर कलेक्टर से मिले और उन्हे इस अनुकम्पा नियुक्ति की संपूर्ण वस्तु स्थिति बताई। कलेक्टर श्री नन्द कुमारम ने जल संसाधन विभाग में अनुकम्पा नियुक्ति हेतु कोई पद रिक्त नही होने पर अपने कार्यालय के स्थापना शाखा के बाबू को बुलाकर उनसे रिक्त पदों की जानकारी ली और सहायक ग्रेड- 3 का कलेक्टर कार्यालय में रिक्त पद होने पर संवेदनशीलता दिखाते हुए तत्काल जल संसाधन विभाग के मृत कर्मचारी श्री तुलसी वल्लभ जोशी की आश्रित पुत्री दीपिका जोशी को नियमानुसार अपने ही कार्यालय, कलेक्टर कार्यालय नीमच में सहायक ग्रेड -3 के रिक्त पद पर अनुकम्पा नियुक्ति प्रदान करने का आदेश जारी कर दिया।
कलेक्टर श्री नन्द कुमारम की इस सहानुभूति एवं संवेदनशीलता की वजह से एक साल से परेशान मृत शासकीय सेवक के परिवार को शासकीय सेवा जैसा संबल मिल सका है। कलेक्टर ने सभी जिला अधिकारियों को अनुकम्पा नियुक्ति प्रकरणों का सहानुभूति पूर्वक निराकरण हेतु निर्देशित किया।कलेक्टर श्री नन्द कुमारम की इस सहानुभूति एवं संवेदनशीलता की आज शहर भर में चर्चा हो रही है