कैरियर गाइडेंस कार्यक्रम के तहत प्रशासनिक अधिकारियों ने दिया युवाओं को मार्गदर्शन     |    हरित क्रांति की मसीहा, भोपाल कमिश्नर कल्पना कल्पना श्रीवास्तव "दीदी"    |    दलहनी फसलों को बढ़ावा देने कृषि अधिकारियों को कलेक्टर श्री यादव ने दिए निर्देश    |    पुलिस का ये चेहरा बहुत ही अच्छा है    |    कलेक्टर के प्रयास से मानसिक विक्षिप्त महिला को मिला परिवार, बेटे को 2 साल बाद मिली मां    |    कलेक्टर ने हाथ मिलाकर शुभकामनायें दीं फिर रवाना किया    |    सब जीते पर दशरथ माँझी हारे    |    पटवारी परीक्षा में फेल होने पर भी दी जा सकेगी पटवारी पद पर नियुक्ति    |    छोटी-छोटी समस्याओं के लिए लोगों को भोपाल न आना पड़े    |    सरकार जल्दी ही एक हल्के पर एक पटवारी करेगी    |    

दलहनी फसलों को बढ़ावा देने कृषि अधिकारियों को कलेक्टर श्री यादव ने दिए निर्देश

PUBLISHED : Jun 02 , 12:12 AM

 

दलहनी फसलों को बढ़ावा देने

कृषि अधिकारियों को कलेक्टर श्री यादव ने दिए निर्देश, खरीफ तैयारियों की समीक्षा

 


कलेक्टर श्री भरत यादव ने जिले में दलहनी फसलों को बढ़ावा देने तथा

 

किसानों को फसल चक्र में परिवर्तन के लिए प्रोत्साहित करने के निर्देश

 

कृषि अधिकारियों को दिये हैं. श्री यादव आज शनिवार को खरीफ की

 

तैयारियों की समीक्षा के लिये आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे.

 

कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में संपन्न हुई इस बैठक में जिला पंचायत की मुख्य

 

कार्यपालन अधिकारी रजनी सिंह भी मौजूद थीं. 


कलेक्टर ने खरीफ फसलों के मद्देनजर किसानों की आवश्यकता के अनुरूप खाद-बीज का अग्रिम भंडारण तथा समिति स्तर तक उठाव सुनिश्चित करने की हिदायत बैठक में दी. उन्होंने कहा कि किसानों को अच्छी गुणवत्ता का खाद-बीज उपलब्ध हो यह सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी भी अधिकारियों को लेनी होगी. श्री यादव ने इसके लिए विक्रय केन्द्रों से खाद-बीज के सेम्पल लेने और परीक्षण में अमानक पाये जाने पर विक्रेताओं के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही करने के साथ-साथ एफआईआर भी दर्ज कराने के निर्देश दिये हैं. 


श्री यादव ने किसानों तक कृषि की नवीनतम तकनीकी का लाभ पहुंचाने के लिए कार्यशालाओं का नियमित रूप से आयोजन करने की जरूरत भी बताई. उन्होंने अरहर, मूंग, उड़द जैसी दलहनी फसल लेने के लिए किसानों को प्रेरित करने पर जोर देते हुए कहा कि इसके लिए कृषि विभाग के मैदानी अमले को ज्यादा सक्रिय करना होगा. उन्होंने जिले में खोले गये कस्टम हायरिंग सेंटर की गतिविधियों की समीक्षा भी बैठक में की तथा इनकी संख्या बढ़ाने के निर्देश दिये. 


कलेक्टर ने किसानों की आय में वृद्धि के लिए उन्हें कृषि के साथ-साथ पशुपालन, मछलीपालन, उद्यानिकी एवं वानिकी की गतिविधियों को अपनाने के लिए प्रेरित करने पर जोर दिया. श्री यादव ने उद्यानिकी, पशुपालन एवं मछलीपालन विभाग की गतिविधियों की समीक्षा भी बैठक में की. श्री यादव ने स्वाईल हेल्प कार्ड बनाने की दिशा में अभी तक हुई प्रगति की जानकारी भी ली तथा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत शत प्रतिशत किसानों को बीमा कराने के निर्देश कृषि अधिकारियों को दिये. उन्होंने कृषि कार्यों की समीक्षा बैठकों में बीमा कंपनी के प्रतिनिधियों की उपस्थिति भी सुनिश्चित करने की हिदायत उप संचालक कृषि को दी. बैठक में उप संचालक कृषि एस.के. निगम एवं कृषि से जुड़े सभी विभागों के अधिकारी मौजूद थे.