बिना हड़ताल के कोटवारों का मानदेय सरकार ने दोगुना किया    |    राजस्व अधिकारी दायित्वों के प्रति गंभीरता बरतें – मुख्य सचिव श्री सिंह    |    सेवानिवृत्ति पर भावभीनी विदाई    |     पटवारी भर्ती, आज फिर 4000 से अधिक परीक्षार्थी परीक्षा से वंचित    |    पटवारी भर्ती, TCS की व्यवस्था पर उठे सवाल     |    'दीनदयाल रसोई योजना' आम ग़रीबजनों के लिए वरदान साबित    |    पटवारी भर्ती परीक्षा 9 दिसम्बर से कलेक्टर बनाए गए समन्वयक    |    कार को वाय वाय, साईकिल से दफतर जाया करेंगे कलेक्टर     |     पटवारी परीक्षा कार्यक्रम में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है     |    निकलने वाली हैं बहुत जल्द 2300 असिस्टेंट प्रोफेसर की भर्ती    |    

'दीनदयाल रसोई योजना' आम ग़रीबजनों के लिए वरदान साबित

PUBLISHED : Dec 08 , 12:31 PM

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

  •  

    'दीनदयाल रसोई योजना'

     

     

     

    आम ग़रीबजनों के लिए वरदान साबित

     

    योजना पर सतत निगाह, एक बहुत अच्छी बात
     
     

     
    सरकार कितनी भी अच्छी योजना बना ले, लेकिन यदि उस पर निगाह न रखी जाए उसका क्रियान्वयन ठीक से न हो तो वह दम तोड़ देती है. उससे इच्छानुरूप लाभ नहीं मिल पाता. योजना के बाद योजना ठीक से संचालित हो, इसमें किसी प्रकार की कोई लापरवाही न हो के लिए सतत निगाह रखी जाकर ठीक से क्रियान्वयन कराना ज्यादा प्रमुख बात होती है. यह एक अच्छी बात है कि यही ध्यान रखे जाने के कारण सरकार द्वारा एकात्म मानववाद के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम से संचालित की जा रही दीनदयाल रसोई योजना आम ग़रीबजनों के लिए वरदान साबित हो रही है.

    पिछले दिनों भोपाल कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे़ ने जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री हरजिंदर सिंह के साथ योजना ठीक से संचालित हो रही है या नहीं, देखने के लिए भोपाल में शाहजहॉनी पार्क स्थित आश्रय स्थल में संचालित दीनदयाल अन्त्योदय रसोईघर का निरीक्षण किया. निरीक्षण में डॉ. खाडे़ ने गरीबों को पॉच रूपये की दर पर प्रदाय किये जाने वाले भोजन की व्यवस्था का जायजा लिया. उन्होंने भोजन की गुणवत्ता, पीने के पानी की व्यवस्था, साफ-सफाई आदि की विस्तृत जानकारी लेते हुये प्रबंधक को आवश्यक निर्देश दिये.

    डॉ. खाडे़ ने वहॉ रह रहे लोगों से भी उन को मिल रही सुविधाओं कि जानकारी ली. उन्होंने कहा कि आश्रय स्थल में आने वाले मजदूरों का कार्ड बनाना सुनिश्चित करें एवं मजदूरों की सभी हितग्राही योजनाओं का एक फोल्डर बना कर रखें. उन्होंने आश्रय स्थल पर आने वाले बीमार व्यक्तियों कि व्यवस्था अलग से करने को भी कहा.

    उन्होंने भोजन करने की व्यवस्था भोजन कक्ष में ही हो, ऐसा भी सुनिश्चित करने के लिए निर्देश दिए. यह एक बहुत अच्छी बात है कि योजना अच्छे से संचालित हो, के लिए बराबर निगाह भी रखी जा रही है.
     
    @ मुकुट सक्सेना