श्री कविन्द्र कियावत बनाये गए भोपाल राजस्व कमिश्नर     |    बिना हड़ताल के कोटवारों का मानदेय सरकार ने दोगुना किया    |    राजस्व अधिकारी दायित्वों के प्रति गंभीरता बरतें – मुख्य सचिव श्री सिंह    |    सेवानिवृत्ति पर भावभीनी विदाई    |     पटवारी भर्ती, आज फिर 4000 से अधिक परीक्षार्थी परीक्षा से वंचित    |    पटवारी भर्ती, TCS की व्यवस्था पर उठे सवाल     |    'दीनदयाल रसोई योजना' आम ग़रीबजनों के लिए वरदान साबित    |    पटवारी भर्ती परीक्षा 9 दिसम्बर से कलेक्टर बनाए गए समन्वयक    |    कार को वाय वाय, साईकिल से दफतर जाया करेंगे कलेक्टर     |     पटवारी परीक्षा कार्यक्रम में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है     |    

भ्रष्टाचार के दलदल में नहाने वाले लोग

PUBLISHED : Sep 05 , 6:32 PM

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

अपने को स्वच्छ और पटवारियों को भ्रष्ट बता रहे हैं 

 

 

भ्रष्टाचार के दलदल में नहाने वाले लोग

 

- सतीश जी. सोनी, पटवारी, सिवनी

 

हाँ एक तरफ मंत्री, विधायक और अधिकारी, पटवारीयों को आये दिन विभागीय कार्यो के लिए लज्जित करते रहते हैं। विभागीय लचरता, आर्थिक और पदों की कमियों से जूझ रहे राजस्व विभाग में केवल पटवारीयों को ही सीख/नसीहत दी जा रही है। और तो और स्वयं भ्रष्टाचार के दलदल में नहाने वाले लोग अपने को स्वच्छ और पटवारियों को भ्रष्ट बता रहे हैं इतना ही नहीं पटवारीयों को गुमराह करके राजनीति करने वाले कुछ एक पटवारी साथी भी अब अपनों पर ही अंगुलियां उठाकर राजनीति के खेल के रिंग मास्टर बनना चाह रहे हैं।

ऐसे लोगों को यह मालूम होना चाहिए कि पटवारीयों का एक बडा समूह कम्प्यूटरीकृत जमाने का है, जो बहकावे या घिनोनी राजनीति का हिस्सा नहीं है और इस तरह से यदि पटवारीयों के नेता के मुखोटे पहन कर ये लोग पटवारीयों की ही टांग खीचने में लग गए हैं तो फिर ये मंत्री, विधायक और अफसरों द्वारा की जाने वाली बेबुनियाद शिकायतों और कार्यवाहियों के बोझ तले प्रदेश में रोजाना कहीं ना कहीं हमारा आम पटवारी साथी मौत का शिकार होगा। शायद अब इन्हें इससे क्या, ये तो नेता बन बैठे हैं और राजनीति का खेल, खेल रहे हैं।

खेलो! खेलो! खूब खेलो!  
इतना ही कहना चाहूंगा कि जब आम पटवारी खेलने मे आयेगा तो सबका खेल तमाशा में तबदील हो जायेगा।