कैरियर गाइडेंस कार्यक्रम के तहत प्रशासनिक अधिकारियों ने दिया युवाओं को मार्गदर्शन     |    हरित क्रांति की मसीहा, भोपाल कमिश्नर कल्पना कल्पना श्रीवास्तव "दीदी"    |    दलहनी फसलों को बढ़ावा देने कृषि अधिकारियों को कलेक्टर श्री यादव ने दिए निर्देश    |    पुलिस का ये चेहरा बहुत ही अच्छा है    |    कलेक्टर के प्रयास से मानसिक विक्षिप्त महिला को मिला परिवार, बेटे को 2 साल बाद मिली मां    |    कलेक्टर ने हाथ मिलाकर शुभकामनायें दीं फिर रवाना किया    |    सब जीते पर दशरथ माँझी हारे    |    पटवारी परीक्षा में फेल होने पर भी दी जा सकेगी पटवारी पद पर नियुक्ति    |    छोटी-छोटी समस्याओं के लिए लोगों को भोपाल न आना पड़े    |    सरकार जल्दी ही एक हल्के पर एक पटवारी करेगी    |    

आप चूजे नहीं नहीं हो

PUBLISHED : Nov 16 , 7:42 PM

 

 

 

आप चूजे नहीं हो 

 

 

              एक बार की बात है कि एक बाज का अंडा मुर्गी के अण्डों के बीच आ गया. कुछ दिनों बाद उन अण्डों में से चूजे निकले, बाज का बच्चा भी उनमे से एक था.वो उन्ही के बीच बड़ा होने लगा. वो वही करता जो बाकी चूजे करते, मिटटी में इधर-उधर खेलता, दाना चुगता और दिन भर उन्हीकी तरह चूँ-चूँ करता. बाकी चूजों की तरह वो भी बस थोडा सा ही ऊपर उड़ पाता , और पंख फड़-फडाते हुए नीचे आ जाता . फिर एक दिन उसने एक बाज को खुले आकाश में उड़ते हुए देखा, बाज बड़े शान से बेधड़क उड़ रहा था.
तब उसने बाकी चूजों से पूछा, कि- ” इतनी उचाई पर उड़ने वाला वो शानदार पक्षी कौन है?”
                 तब चूजों ने कहा-” अरे वो बाज है, पक्षियों का राजा, वो बहुत ही ताकतवर और विशाल है , लेकिन तुम उसकी तरह नहीं उड़ सकते क्योंकि तुम तो एक चूजे हो!”
                  बाज के बच्चे ने इसे सच मान लिया और कभी वैसा बनने की कोशिश नहीं की. वो ज़िन्दगी भर चूजों की तरह रहा, और एक दिन बिना अपनी असली ताकत पहचाने ही मर गया.
              दोस्तों , हममें से बहुत से लोग उस बाज की तरह ही अपनी असली सामर्थ्य शाक्ति जाने बिना एक साधारण ज़िन्दगी जीते रहते हैं, हमारे आस-पास की साधारण परिस्थिति हमें भी साधारण बना देती है.हम में ये भूल जाते हैं कि हम आपार संभावनाओं से पूर्ण एक प्राणी हैं. हमारे लिए इस जग में कुछ भी असंभव नहीं है,पर फिर भी बस एक औसत जीवन जी के हम इतने बड़े मौके को गँवा देते हैं.

आप चूजों की तरह मत बनिए , अपने आप पर ,अपनी काबिलियत पर भरोसा कीजिए. आप चाहे जहाँ हों, जिस परिवेश में हों, अपनी क्षमताओं को पहचानिए और आकाश की ऊँचाइयों पर उड़ कर दिखाइए क्योंकि यही आपकी वास्तविकता है.