बिना हड़ताल के कोटवारों का मानदेय सरकार ने दोगुना किया    |    राजस्व अधिकारी दायित्वों के प्रति गंभीरता बरतें – मुख्य सचिव श्री सिंह    |    सेवानिवृत्ति पर भावभीनी विदाई    |     पटवारी भर्ती, आज फिर 4000 से अधिक परीक्षार्थी परीक्षा से वंचित    |    पटवारी भर्ती, TCS की व्यवस्था पर उठे सवाल     |    'दीनदयाल रसोई योजना' आम ग़रीबजनों के लिए वरदान साबित    |    पटवारी भर्ती परीक्षा 9 दिसम्बर से कलेक्टर बनाए गए समन्वयक    |    कार को वाय वाय, साईकिल से दफतर जाया करेंगे कलेक्टर     |     पटवारी परीक्षा कार्यक्रम में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है     |    निकलने वाली हैं बहुत जल्द 2300 असिस्टेंट प्रोफेसर की भर्ती    |    

पटवारी भर्ती, TCS की व्यवस्था पर उठे सवाल

PUBLISHED : Dec 09 , 10:12 PM


 

पटवारी भर्ती में भारी अव्यवस्था  

बड़ी संख्या में अभ्यर्थी नहीं दे सके परीक्षा

TCS की व्यवस्था पर उठे सवाल 

 

सर्वर डाउन के चलते आज परीक्षा देने वाले आवेदक करीब 24000 में से करीब 8000 आवेदक ही शामिल हो पाए. कंपनी TCS ठीक से व्यवस्था नहीं कर सकी, इस कारण उसे ब्लैकलिस्टेड किये जाने जैसी बातें भी कही जा रही हैं, हालांकि यह भी माना जा रहा है कि TCS जैसी कम्पनी को ब्लैकलिस्टेड करना इतना आसान भी नहीं होगा. 

 

भोपाल. मध्यप्रदेश की ऐतिहासिक पटवारी भर्ती परीक्षा 2017 की भारी अव्यवस्था के बीच आज से शुरूआत हुई. पहले ही दिन यह परीक्षा विवादों में घिर गई. पहले दिन ही तय समय पर पेपर शुरू नहीं हो पाया. सर्वर डाउन के चलते आज परीक्षा देने वाले आवेदक करीब 24000 में से करीब 8000 आवेदक ही शामिल हो पाए. 

आज पटवारी भर्ती परीक्षा के पहले दिन ही व्यापमं की भारी अनियमितताएं उजागर हुई हैं, जिसके विरोध में छात्रों ने व्यापम में गड़बड़ी का आरोप लगाया और हंगमा किया. सर्वर डाउन होने से परीक्षार्थी का वेरिफिकेशन नहीं हो पा रहा है, आधार लिंक न होने के चलते सुबह 9 बजे शुरू होने वाली परीक्षा नियमित समय पर शुरू नहीं होकर लगभग 3 घंटे बिलम्ब से शुरू हो सकी. जिसके विरोध में छात्रों ने हंगामा किया. 

बताया जा रहा है इस ऐतिहासिक परीक्षा के लिए फीस के रूप में 400 करोड़ रुपए की वसूली की गई है, बावजूद हालात ऐसे हैं. वहीं मप्र के तकनीकी शिक्षा मंत्री दीपक जोशी का कहना है कि तकनीकी खामियों के कारण यह परीक्षा नियमित समय से शुरू नहीं हो पाई. उन्होंने बताया है कि निजी कंपनियों को काम सौंपा गया था, जो ठीक से काम नहीं कर सकीं.

पेपर रद्द होने के कारण भोपाल में प्रदेश भर से आए हुए छात्र परेशान हो रहे हैं और छात्र कॉलेजों में प्रदर्शन कर रहे हैं. छात्रों ने व्यापमं में गड़बड़ी के आरोप लगाते हुए पैसे वापस करने की मांग की है. फर्जीवाड़े के लिए बदनाम हो चुके व्यापमं ने बड़ी परीक्षा का आयोजन किया, जिसमे रिकॉर्ड तोड़ आवेदन किये गए. कुल 9 हजार 235 पदों के लिए परीक्षा में करीब 10 लाख 20 हजार उम्मीदवार शामिल हो रहे हैं, जिनमें पीएचडी, एमबीए सहित इंजीनियरिंग के छात्र शामिल हैं. शहर में परीक्षार्थियों की संख्या करीब ढाई लाख बताई जा रही है. यह परीक्षा 16 शहरों में 85 केंद्रों पर आयोजित की जा रही है. परीक्षा आज शनिवार से शुरू हुई है, जो 29 दिसंबर तक लगातार चलेगी. हर दिन औसतन 26 हजार उम्मीदवार पूरे प्रदेश से परीक्षा में शामिल होंगे. परीक्षा दो चरणों में सुबह 9 बजे 11 और दोपहर 3 से 5 बजे तक होगी. 9 से 29 दिसंबर तक 17 और 25 दिसंबर को छोड़कर हर दिन परीक्षा होनी है.

प्रोफेशनल एक्समिनेशन बोर्ड के एग्जाम कंट्रोलर एस के एस भदौरिया ने माना है कि आज पूरे प्रदेश के 86 सेंटर्स में 26 हजार आवेदकों को होना था, लेकिन सर्वर डाउन के चलते अव्यवस्था के कारण टवारी की पहली परीक्षा में करीब 8000 आवेदक ही शामिल हो पाए. उन्होंने कहा है कि वंचित रहे करीब करीब 18 हजार आवेदकों की री शेड्यूल परीक्षा होगी. यह भी कहा जा रहा है कि परीक्षा कराने वाली कंपनी TCS ठीक से व्यवस्था नहीं कर सकी, इस कारण उसे ब्लैकलिस्टेड किया जा सकता है, पर यह भी माना जा रहा है कि TCS जैसी कम्पनी को ब्लैकलिस्टेड करना इतना आसान भी नहीं होगा. 
 
 


.