पटवारी आवेदन की तारीख बड़ी अब 15 तक कर सकेंगे आवेदन    |    चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संवर्ग का वेतनमान अब 5200-20200-1700 होगा, आदेश जारी    |    लिपिक वर्गीय कर्मचारियों की बल्ले बल्ले, पदनाम परिवर्तित, ग्रेड पे बढ़ा    |    पटवारी भर्ती परीक्षा की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण तथ्य 2    |    पटवारियों की बम्फर भर्ती प्रक्रिया शुरू, कल से भरे जा सकेंगे ऑनलाइन फ़ार्म    |    कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे ने समस्याएं निराकृत करने दिए निर्देश    |    अपर कलेक्टर श्रीमती दिशा प्रणय नागवंशी द्वारा ग्राम बरखेडा बोंदर और परवलिया सड़क का भ्रमण    |    संविदा पर भर्ती से तहसीलदार जैसे एक महत्वपूर्ण पद की महत्ता कम होगी : मुकुट सक्सेना     |    स्थानांतरित पटवारी तत्काल कार्यभार ग्रहण करें, वरना होगी सख्त कार्यवाही - कलेक्टर डॉ. खाडे     |    पटवारी जी कृपया नामांतरण ग्राम पंचायत में ही प्रमाणित करवाएं    |    

पटवारी के शोषण के पीछे एक कारण यह भी ...?

PUBLISHED : Aug 29 , 3:15 PM

 

 
 
 
 
 
 
  
 
 
 
 
 
 
पटवारी के शोषण के पीछे 
 
एक कारण यह भी ..?

      प्रदेश में पटवारी की नियुक्ति व्यापम क्वालीफाई करने के बाद जिला स्तर की मैरिट में आने पर MPLRC की धारा 104 के अंतर्गत होती है। इसके अनुसार नियुक्तिकर्ता कलेक्टर होता है, परंतु राज्य एवं जिला स्तर पर क्वालीफाई करने के बावजूद पटवारी का नियुक्ति आदेश एस.डी.एम. के द्वारा किया जाता है। इससे एस.डी.एम. को पटवारी के निलंबन से बर्खास्त करने तक के अधिकार प्राप्त हो जाते हैं।

         पटवारी के शोषण से लेकर उस पर लगने वाले अधिकांश आरोपों का कारण यही है। जब तक धारा 104 के अंतर्गत पटवारी की नियुक्ति कलेक्टर द्वारा नहीं की जायेगी, उसका शोषण बंद नहीं होगा। और न ही चाटुकारिता और भ्रष्टाचार कम होगा।                                                                    

  - पंकज समाधिया, पटवारी जी दतिया