पटवारी परीक्षा में फेल होने पर भी दी जा सकेगी पटवारी पद पर नियुक्ति    |    छोटी-छोटी समस्याओं के लिए लोगों को भोपाल न आना पड़े    |    सरकार जल्दी ही एक हल्के पर एक पटवारी करेगी    |     एसआर मोहंती बने कमलनाथ सरकार में नए प्रशासनिक मुखिया    |    चुनाव प्रक्रिया में किये बदलाव प्रजातन्त्र को मज़बूत करेगें -कलेक्टर दीपक सक्सेना    |    भोपाल की हुज़ूर तहसील विभाजित, एक और नई तहसील बनी    |    श्री कविन्द्र कियावत बनाये गए भोपाल राजस्व कमिश्नर     |    बिना हड़ताल के कोटवारों का मानदेय सरकार ने दोगुना किया    |    राजस्व अधिकारी दायित्वों के प्रति गंभीरता बरतें – मुख्य सचिव श्री सिंह    |    सेवानिवृत्ति पर भावभीनी विदाई    |    

पटवारी के शोषण के पीछे एक कारण यह भी ...?

PUBLISHED : Aug 29 , 3:15 PM

 

 
 
 
 
 
 
  
 
 
 
 
 
 
पटवारी के शोषण के पीछे 
 
एक कारण यह भी ..?

      प्रदेश में पटवारी की नियुक्ति व्यापम क्वालीफाई करने के बाद जिला स्तर की मैरिट में आने पर MPLRC की धारा 104 के अंतर्गत होती है। इसके अनुसार नियुक्तिकर्ता कलेक्टर होता है, परंतु राज्य एवं जिला स्तर पर क्वालीफाई करने के बावजूद पटवारी का नियुक्ति आदेश एस.डी.एम. के द्वारा किया जाता है। इससे एस.डी.एम. को पटवारी के निलंबन से बर्खास्त करने तक के अधिकार प्राप्त हो जाते हैं।

         पटवारी के शोषण से लेकर उस पर लगने वाले अधिकांश आरोपों का कारण यही है। जब तक धारा 104 के अंतर्गत पटवारी की नियुक्ति कलेक्टर द्वारा नहीं की जायेगी, उसका शोषण बंद नहीं होगा। और न ही चाटुकारिता और भ्रष्टाचार कम होगा।                                                                    

  - पंकज समाधिया, पटवारी जी दतिया