पटवारी आवेदन की तारीख बड़ी अब 15 तक कर सकेंगे आवेदन    |    चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संवर्ग का वेतनमान अब 5200-20200-1700 होगा, आदेश जारी    |    लिपिक वर्गीय कर्मचारियों की बल्ले बल्ले, पदनाम परिवर्तित, ग्रेड पे बढ़ा    |    पटवारी भर्ती परीक्षा की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण तथ्य 2    |    पटवारियों की बम्फर भर्ती प्रक्रिया शुरू, कल से भरे जा सकेंगे ऑनलाइन फ़ार्म    |    कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे ने समस्याएं निराकृत करने दिए निर्देश    |    अपर कलेक्टर श्रीमती दिशा प्रणय नागवंशी द्वारा ग्राम बरखेडा बोंदर और परवलिया सड़क का भ्रमण    |    संविदा पर भर्ती से तहसीलदार जैसे एक महत्वपूर्ण पद की महत्ता कम होगी : मुकुट सक्सेना     |    स्थानांतरित पटवारी तत्काल कार्यभार ग्रहण करें, वरना होगी सख्त कार्यवाही - कलेक्टर डॉ. खाडे     |    पटवारी जी कृपया नामांतरण ग्राम पंचायत में ही प्रमाणित करवाएं    |    

जिंदगी पर सबसे भारी पड़ता है झूठ

PUBLISHED : Sep 10 , 10:14 AM

 


 

 

 

 

 

 

 

  

 

जिंदगी पर सबसे भारी पड़ता है झूठ

 

 - उमाकांत मिश्रा 

 

हाभारत के अभिन्न पात्र दानवीर कर्ण ने जीवन में केवल एक बार ही झूठ बोला और यही झूठ उनके जीवन पर सबसे ज्यादा भारी पड़ा।

कर्ण ने अस्त्र विद्या भगवान परशुराम से सीखी थी, भगवान परशुराम का प्रण केवल ब्राह्मणों को ही शस्त्र विद्या सिखाने का था। कर्ण ब्राह्मण नहीं थे, लेकिन उन्होंने परशुराम से झूठ बोल दिया कि वो ब्राह्मण है। कर्ण की बात को सच मानकर परशुराम ने उन्हें शस्त्र की शिक्षा दे दी।

एक दिन जंगल में कहीं जाते हुए परशुरामजी को थकान महसूस हुई, उन्होंने कर्ण से कहा कि वे थोड़ी देर सोना चाहते हैं। कर्ण ने उनका सिर अपनी गोद में रख लिया। परशुराम गहरी नींद में सो गए। तभी कहीं से एक कीड़ा आया और उसने कर्ण की जांघ पर डंक मारने लगा। कर्ण की जांघ पर घाव हो गया लेकिन परशुराम की नींद खुल जाने के भय से वह चुपचाप बैठा रहा, घाव से खून बहने लगा।

बहता खून परशुराम के चेहरे तक पहुंचा तो उनकी नींद खुल गई। उन्होंने कर्ण से पूछा कि तुमने उस कीड़े को हटाया क्यों नहीं। कर्ण ने कहा आपकी नींद टूटने का डर था इसलिए। परशुराम ने कहा किसी ब्राह्मण में इतनी सहनशीलता नहीं हो सकती है। तुम जरूर कोई क्षत्रिय हो।

कर्ण ने सच बता दिया। क्रोधित परशुराम ने कर्ण को शाप दिया कि तुमने मुझसे जो भी विद्या सीखी है वह झूठ बोलकर सीखी है, इसलिए जब भी तुम्हें इस विद्या की सबसे ज्यादा आवश्यकता होगी, तभी तुम इसे भूल जाओगे, कोई भी दिव्यास्त्र का उपयोग नहीं कर पाओगे।

हुआ भी ऐसा ही, महाभारत के प्रमुख युद्ध में जब कर्ण अर्जुन से लडऩे पहुंचा तो वो अपने आप ही सारे दिव्यास्त्रों के प्रयोग की विधि भूल गया और अर्जुन के हाथों मारा गया।

 

Buy iPhone 6 64 GB from Snapdeal