पटवारी आवेदन की तारीख बड़ी अब 15 तक कर सकेंगे आवेदन    |    चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संवर्ग का वेतनमान अब 5200-20200-1700 होगा, आदेश जारी    |    लिपिक वर्गीय कर्मचारियों की बल्ले बल्ले, पदनाम परिवर्तित, ग्रेड पे बढ़ा    |    पटवारी भर्ती परीक्षा की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण तथ्य 2    |    पटवारियों की बम्फर भर्ती प्रक्रिया शुरू, कल से भरे जा सकेंगे ऑनलाइन फ़ार्म    |    कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे ने समस्याएं निराकृत करने दिए निर्देश    |    अपर कलेक्टर श्रीमती दिशा प्रणय नागवंशी द्वारा ग्राम बरखेडा बोंदर और परवलिया सड़क का भ्रमण    |    संविदा पर भर्ती से तहसीलदार जैसे एक महत्वपूर्ण पद की महत्ता कम होगी : मुकुट सक्सेना     |    स्थानांतरित पटवारी तत्काल कार्यभार ग्रहण करें, वरना होगी सख्त कार्यवाही - कलेक्टर डॉ. खाडे     |    पटवारी जी कृपया नामांतरण ग्राम पंचायत में ही प्रमाणित करवाएं    |    

घाट की सफ़ाई

PUBLISHED : Nov 17 , 8:39 PM

 

 

 उनके लिए धर्म और पूजा है 

 

घाट की सफ़ाई

 

- अशोक जमनानी

 

डिण्डोरी के पास एक छोटा सा गाँव है -जोगी टिकरिया। नर्मदा तट पर स्थित इस गाँव के घाट को बेहद साफ़ सुथरा देखकर थोड़ा आश्चर्य हुआ क्योंकि अपने देश में किसी सार्वजानिक स्थान को साफ़ देखना किसी चमत्कार से कम नहीं लगता।

फिर मुलाकात हुई घाट की सफ़ाई कर रहे एक बुज़ुर्ग से।

मैंने पूछा कि घाट इतना साफ़ कैसे है ?

तो उनके साथी ने बताया कि ये कोमलदास बाबा हैं। वन विभाग में अच्छे पद पर थे। बड़ी बेटी IIITM हैदराबाद में पढ़ाती है , दूसरी बेटी बैंक मैनेजर है और बेटे ने MBA पूरा कर लिया तो कोमलदास जी ने नौकरी से इस्तीफ़ा दिया और यहाँ आ गए और दिन में लगभग 12 घंटे घाट की सफ़ाई करते हैं।

मैने उनसे पूछा कि जब आराम का समय आया, तो सब कुछ क्यों छोड़ आये ?

उन्होंने कहा कि भजन भी तो करना था।

मैंने कहा आप 12 घंटे तो घाट की सफ़ाई करते हैं, भजन कब करेंगे ? 
उन्होंने मुस्कराकर कहा - यही तो भजन है। सफाई अभियान से बहुत पहले से कोमलदास जी नर्मदा तट को साफ़ करना भजन मान चुके हैं उनके लिए यही धर्म है, यही पूजा है !