राजस्व अधिकारी दायित्वों के प्रति गंभीरता बरतें – मुख्य सचिव श्री सिंह    |    सेवानिवृत्ति पर भावभीनी विदाई    |     पटवारी भर्ती, आज फिर 4000 से अधिक परीक्षार्थी परीक्षा से वंचित    |    पटवारी भर्ती, TCS की व्यवस्था पर उठे सवाल     |    'दीनदयाल रसोई योजना' आम ग़रीबजनों के लिए वरदान साबित    |    पटवारी भर्ती परीक्षा 9 दिसम्बर से कलेक्टर बनाए गए समन्वयक    |    कार को वाय वाय, साईकिल से दफतर जाया करेंगे कलेक्टर     |     पटवारी परीक्षा कार्यक्रम में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है     |    निकलने वाली हैं बहुत जल्द 2300 असिस्टेंट प्रोफेसर की भर्ती    |    पटवारी आवेदन की तारीख बड़ी अब 15 तक कर सकेंगे आवेदन    |    

घाट की सफ़ाई

PUBLISHED : Nov 17 , 8:39 PM

 

 

 उनके लिए धर्म और पूजा है 

 

घाट की सफ़ाई

 

- अशोक जमनानी

 

डिण्डोरी के पास एक छोटा सा गाँव है -जोगी टिकरिया। नर्मदा तट पर स्थित इस गाँव के घाट को बेहद साफ़ सुथरा देखकर थोड़ा आश्चर्य हुआ क्योंकि अपने देश में किसी सार्वजानिक स्थान को साफ़ देखना किसी चमत्कार से कम नहीं लगता।

फिर मुलाकात हुई घाट की सफ़ाई कर रहे एक बुज़ुर्ग से।

मैंने पूछा कि घाट इतना साफ़ कैसे है ?

तो उनके साथी ने बताया कि ये कोमलदास बाबा हैं। वन विभाग में अच्छे पद पर थे। बड़ी बेटी IIITM हैदराबाद में पढ़ाती है , दूसरी बेटी बैंक मैनेजर है और बेटे ने MBA पूरा कर लिया तो कोमलदास जी ने नौकरी से इस्तीफ़ा दिया और यहाँ आ गए और दिन में लगभग 12 घंटे घाट की सफ़ाई करते हैं।

मैने उनसे पूछा कि जब आराम का समय आया, तो सब कुछ क्यों छोड़ आये ?

उन्होंने कहा कि भजन भी तो करना था।

मैंने कहा आप 12 घंटे तो घाट की सफ़ाई करते हैं, भजन कब करेंगे ? 
उन्होंने मुस्कराकर कहा - यही तो भजन है। सफाई अभियान से बहुत पहले से कोमलदास जी नर्मदा तट को साफ़ करना भजन मान चुके हैं उनके लिए यही धर्म है, यही पूजा है !