पटवारी आवेदन की तारीख बड़ी अब 15 तक कर सकेंगे आवेदन    |    चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संवर्ग का वेतनमान अब 5200-20200-1700 होगा, आदेश जारी    |    लिपिक वर्गीय कर्मचारियों की बल्ले बल्ले, पदनाम परिवर्तित, ग्रेड पे बढ़ा    |    पटवारी भर्ती परीक्षा की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण तथ्य 2    |    पटवारियों की बम्फर भर्ती प्रक्रिया शुरू, कल से भरे जा सकेंगे ऑनलाइन फ़ार्म    |    कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे ने समस्याएं निराकृत करने दिए निर्देश    |    अपर कलेक्टर श्रीमती दिशा प्रणय नागवंशी द्वारा ग्राम बरखेडा बोंदर और परवलिया सड़क का भ्रमण    |    संविदा पर भर्ती से तहसीलदार जैसे एक महत्वपूर्ण पद की महत्ता कम होगी : मुकुट सक्सेना     |    स्थानांतरित पटवारी तत्काल कार्यभार ग्रहण करें, वरना होगी सख्त कार्यवाही - कलेक्टर डॉ. खाडे     |    पटवारी जी कृपया नामांतरण ग्राम पंचायत में ही प्रमाणित करवाएं    |    

संभव है बहुत कुछ पर ...

PUBLISHED : Nov 06 , 9:01 PM

 

 

उसे जिंदगी से तुरंत बाहर करें

 

मेढक को अगर पानी से भरे बर्तन में रख कर गर्म करना शुरू किया जाए तो एक रोचक
और दिमाग को झकझोर देने वाला मंज़र देखने को मिलेगा I जैसे जैसे पानी का तापमान बढ़ेगा मेढक उस तापमान के हिसाब से अपना शरीर समायोजित करने लगेगा I 
पानी के क्वथनांक में आ जाने तक ऐसा चलता रहेगा I मेढक अपनी सारी उर्जा पानी के
तापमान से अपने शरीर को समायोजित करने में लगा देगा ----
पर जैसे ही पानी अपने क्वथनांक (बोइलिंग पॉइंट) में आयेगा, मेढक अपने शरीर
को उसके अनुसार समायोजित नहीं कर सकेगा और वो पानी से बाहर आने की कोशिश करेगा,
पर अब ये संभव नहीं है
----
क्यूँ ?
क्यूंकि मेढक ने अपनी छलाँग लगाने की क्षमता के बावजूद उसने सारी ऊर्जा वातावरण के साथ
समायोजन स्थापित करने में खर्च कर दी I वो पानी से बाहर नहीं आ पायेगा और मारा जायेगा I
पर मेढक को मारता कौन है ?
उबला हुआ पानी ?
नहीं !
मेढक को मार देती है उसकी असमर्थता या कह लीजिये निर्णय लेने की अक्षमता कि पानी से बाहर
आने के लिये कब छलांग लगानी है I
इसी तरह हम भी अपने आसपास के वातावरण और लोगो के साथ सामंजस्य बना के चलते रहते
हैं और कभी कभी ये सामंजस्य हम पर ही भारी पड जाता है, जब लोग ये
समझना शुरू कर देते हैं के हम कुछ भी करे ये तो एडजेस्ट कर ही लेगा और हमारी भी आदत
हो ही जाती है I धीरे धीरे हम प्रतिरोध करना भी बंद कर देते हैं, या फिर यूँ
कहे की हमारी प्रतिरोधात्मक क्षमता खतम हो जाती है I
सब के जीवन में कोई न कोई ऐसा होता है, जिसके लिए हम लगातार खुद के साथ
सामंजस्य बनाते रहते हैं । स्वभावतः ये हमें अच्छा नहीं लगता पर कोई न कोई
मजबूरी हमें ऐसा करते रहने के लिए प्रेरित करती रहती है और हम अपनी सारी उर्जा इसी में
खर्च करते रहते हैं, पर जब पानी अपने क्वथनांक (बोइलिंग पॉइंट) में आता है, तब हमारे पास बाहर
निकलने की क्षमता नहीं रह जाती, और हमारी हालत उसी मेढक की भाँती हो जाती है
जो पानी के तापमान के साथ खुद को एड्जस्ट करता रहता है......
पर इसका उपाय है हमारे द्वारा लिया गया एक दृढ़ निर्णय की ऐसी परिस्थिति और लोगो से कब और कैसे दूर जाना है ...?
• जो आपकी मानसिक शांति भंग करे, उसको अपनी जिंदगी से तुरंत बाहर करें I
• दूसरों के लिए खुद को न बदलें I
• किसी और की पसंद के लिए अपनी पसंद की तिलांजलि मत दें I
• सामंजस्य बनाने की आदत लग ही गयी है, तो अपने परिवार के साथ बनाये।